केजरीवाल की जीत पर चिदंबरम हुए खुश तो शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पूछे ये सवाल

नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (AAP) ने जोरदार वापसी की है. 70 में से 62 सीटों पर जीत दर्ज कर केजरीवाल तीसरी बार मुख्यमंत्री बनेंगे. पिछली बार की तीन सीटों के लिहाज से इसे बीजेपी के प्रदर्शन में सुधार कहा जा सकता है.

कांग्रेस एक बार फिर दिल्ली में अपना खाता नहीं खोल पाई. कांग्रेस में इसे लेकर अंदरुनी कलह शुरू हो गई है. कांग्रेस पार्टी की प्रवक्ता और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी (Sharmistha Mukherjee) ने मंगलवार को ये स्वीकार किया कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का एक बार फिर से पतन हुआ है. उन्होंने कांग्रेस के पतन के कारण भी गिनाए हैं. महिला कांग्रेस की अध्यक्ष शर्मिष्ठा ने शीर्ष नेतृत्व पर भी सवाल उठाए हैं.

कांग्रेस पार्टी (Congress) की वरिष्ठ नेता एवं पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने एक ट्वीट जारी करते हुए दिल्ली में पार्टी की हार पर जमकर सवाल खड़े किए हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की जीत को विपक्ष का हौसला बढ़ाने वाला परिणाम करार दिया है. जिसके जबाव में शर्मिष्ठा ने ट्वीट किया.

शर्मिष्ठा ने इसके लिए पार्टी आला कमान को भी जिम्मेदार ठहराया है. इसके साथ राज्य स्तर पर एकता की कमी को भी उन्होंने हार की वजह बताया है.

पूर्व सीएम शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित विधानसभा चुनावों (Assembly Election) में कांग्रेस का खाता तक ना खुल पाने के बाद पार्टी नेताओं पर जमकर बरसे. पूर्वी दिल्ली से सांसद रह चुके संदीप दीक्षित (Sandeep dixit) ने कहा कि कांग्रेस की ऐतिहासिक हार के लिए कांग्रेस खुद जिम्मेदार है.

दिल्ली चुनाव के रुझानों में कांग्रेस के वोट शेयर में जबरदस्त गिरावट देखने को मिल रही है, जहां पार्टी को 2015 चुनाव के मुकाबले कम वोट हासिल हुआ है. साल 2015 की तरह इस बार भी कांग्रेस की शर्मनाक हार हुई है. पार्टी को एक सीट भी नसीब नहीं हुई.

इतना ही नहीं 66 विधायकों में से पार्टी को 63 विधायकों की जमानत जब्त हो गई. पार्टी की इस हार पर कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी की रणनीति पर ही सवाल खड़े कर दिए.पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के नेतृत्व में दिल्ली में 15 साल तक शासन करने वाली कांग्रेस लगातार दूसरी बार विधानसभा चुनाव में एक भी सीट जीतने में नाकाम रही. (एजेंसी हिस.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *